Posted by: Rajesh Shukla | September 23, 2012

अविनाश कौल की फिलॉसफी ऑफ इन्गेजमेन्ट


जूम के अविनाश कौल से  पांच सवाल

टेलीविजन के दर्शकों की लागातार बदलती रूचियों और टीवी पर मनोरंजन की विविधता से इस क्षेत्र में सतत नवाचार तथा रचनाशीलता चैनलों के टिके रहने के लिये एक बाध्यता बन गई है। मनोरंजन में अपनी एक अलग पहचान बनाने वाला जूम म्यूजिक चैनल अपने नवें वर्ष में प्रवेश के साथ ही अपनें कार्यक्रमों को नया स्वरूप देने की तरफ अग्रसर है। सतत नयी सम्भावनाओं की तलाश करते रहने वाले टाईम्स नाऊ, ईटी नाऊ और जूम के सीईओ अविनाश कौल से  पांच सवाल प्रस्तुत है जिन्हें इम्पैक्ट पत्रिका ने छापा था । सीईओ के बतौर  एन्टरटेनमेन्ट की उनकी अवधारणाओं,सोशल मीडिया और इंटरनेट की सम्भावनाओं की समझ में बहुत कुछ समझने लायक है इसलिये यह पुनरूत्पादन यहां किया जा रहा है।

 जूम नें सितम्बर १7 को अपने आठ साल पूरे किये, कैसा रहा अब तक का यह सफर?

नवाचार और लीडरशिप की यह एक जोश भरी यात्रा रही। जब 2004 में जूम लॉच हुआ और भारतीय टेलीविजन के इस विशेष जेनर में एक ब्रांड स्थापित किया, तबसे जूम बॉलीवुड का सबसे बेहतर कन्टेन्ट दर्शको के सामने लानें में अग्रणी रहा है। इस वर्ष हमने अभूतपूर्व सफलता हासिल की है। हमने अपनी स्ट्रेटेजी बदली, संगीत पैकेज को नये ठर्रे पर स्थापित किया और एकदम नया कार्यक्रम म्यूजक द जूम वे “जूमबास्टिक लेकर आये हैं। यह हमारे दर्शको के साथ बहुत अच्छा गया और इसने हमारे सुबह का म्यूजिक शो, वर्तमान में सभी  म्यूजिक आधारित चैनलों टॉप लीडर्स को पीछे धकेलता हुआ शिर्ष पादान पर जा पहूँचा है। हमने अपनी मूवी प्रस्तुतियों में भी बदलाव किया है और नया सामने लाने की कोशिस की है। हमने जूमफ्लिक्स को मनोरंजन का समग्र अनुभव देने के लिये इसकी लाईब्रेरी में परिवर्तन करके एक्शन, कॉमडी, ड्रामा और रोमांस का एक नया सम्मिश्रण सामने रखा ।

हमारी खबरें और फीचर्स शो इस जेनर में व्यूअरशिप को लागातार प्रभावित करती रहेंगी, अगामी महीनों में रोमांचक कार्यक्रमों एक पूरी फेहरिश्त पेश होने के लिये तैय्यार है। वस्तुतः सितम्बर २४ को हम एक नया फीचर शो “बॉलीवुड स्टोरीटेलर्स” लॉच करने जा रहे हैं, यह दर्शकों को नयेयुग के सिनेमा निर्देशकों और फिल्ममेकर्स जैसे फरहान अख्तर,इम्तियाज अली, अनुराग कष्यप ‍और अन्य नवयुवक निर्देशकों की सिनामाई यात्रा पर ले जायेगा जिन्होनें बॉलीवुड में कथ्य के नियमों को पुनर्परिभाषित किया। उनकी कथायें न केवल रूचिकर हैं बल्कि जूम के नवयुवक दर्शकों के लिये प्रेरणादायक भी हैं।

क्या आप अपने वार्षिक समारोह के अवसर पर पेश होने वाली विशिष्ट नयी प्रस्तुतियों पर थोडा प्रकाश डालेंगे?

जूम के वार्षिक समारोह से सम्बन्धित बहुत से रोमांचक कार्यक्रम, फीचर्स, बालीवुड न्यूज और “सेलीब्रे-8” थीम हमने लॉन्च किया है। इस विशेष अवसर पर हमने विश्वभर में आठ एक्स्क्लूसिव गीतों का साथ साथ प्रीमियर करने की योजना बनाई है।  जूम के दर्शक 23 सितम्बर तक हर सुबह आठ अलग अलग थीम गीतों “झूम बराबर झूम” को सुनते हुये जागेंगे। एक लोकप्रिय शो “यू लाईक” आठ दिनों तक आठ टॉप अनुरोधों पर प्लेलिस्ट को फीचर करेगा। हमारे अन्य प्रोग्रामों में “4-प्ले” दर्शकों को एक ही सिनेमा कें बैक-टू-बैक गीतों से मनोरंजित करेगा जबकि एक विशेष्ट कार्यक्रम “8 एट 8” आठ सुपरस्टार्स कें आठगीतों से हररोज दर्शकों का मनोरंजन करेगा।

आठ दिनों तक दर्शक अपने पसंदीदा स्टार्स को “ ओ क्यूज 8 “ में अपनें खुलेदिलमिजाज रूप में देख सकेंगे। एक विशेष फीचर श्रृंखला “8-ए-थॉन” आठ हालिया बेहतरीन रीलीज, आठ बडी ब्लॉकबुस्टर्स, सुपरस्टार्स, विवादों, फैशन स्टेटमेन्ट्स, आनस्क्रीन कपल्स और आठ वर्षों में पर्दे पर सबसे हॉट उपस्थितियों कों दिखलायेगा। सर्वोत्कृष्ट एन्टरटेनमेन्ट न्यूज शो “प्लानेट बॉलीवुड न्यूज” आठ दिनों तक बॉलीवुड की आठ ब्रेकिंग न्यूज से मिजाज को गर्मायेगा।

 जूम सदैव से स्वयं को शुद्ध बॉलीवुड चैनल के रूप में सामने रखता रहा, क्या इस स्पेश में व्यूअरशिप ट्रेन्ड बदला है

हम ब्रांड के बावत जो कुछ भी करते हैं उसके केन्द्र में दर्शक ही होता है। इन वर्षों में हमने अपने मुख्य दर्शक वर्ग जो कि नवयुवक हैं एक समझदारी विकसित की है। हमारी योजनायें और हमारे कामों में यह समझदारी ही पथप्रदर्शक रहती है और यह हमारे कार्यक्रमों और ब्रांड अनुभव से आया है। नवयुवक एक बहुत ही डायनॉमिक टारगेट ग्रुप है—एक स्तर पर यह सबसे अलग दर्शक वर्ग है और दूसरी तरफ सबसे रोमांचक भी। बॉलीवुड अनेक पीढियों के नवयुवकों  के लिये सबसे बडा जुनून रहा है और आने वाले वर्षों में भी बना रहेगा।

हलांकि, हरएक पीढी के नवयुवक बॉलीवुड से जो भी सम्बन्ध बनाते हैं और जो कुछ प्रभाव उनपर पडता है वह लागातार बदलता रहता है। जब हम अपने दर्शकों पर केन्दित करते है तो जूम इस बदलते स्वभाव और अभिरूचियों पर ही ध्यान देता है । हमने अपने दर्शकों के लिये प्रासंगिक, प्रभावी और लुभावने बेहतर अनुभव देने वाले कार्यक्रमों की रचना की है और यह विज्ञापनदाताओं के लिये एक बडा प्लेटफार्म है।
डिजिटल परिस्थियों का जूम किस तरह इस्तेमाल करेगा, सोशलमीडिया के इतर अन्य कौन से प्लेटफार्म हैं जिसे चैनल इस्तेमाल कर रहा है?

भारत में जूम उन चन्द मीडिया ब्रांड्स में एक है जिसने डीजिटल प्लेटफार्म तथा सोशल मीडिया को अपनी समग्रता में अपनाया है। यू ट्यूब पर कमोवेश 67 करोड व्यूज के साथ यह ब्रांड समूचे एशिया में सबसे बडा होना स्वयं में बॉलीवुड कन्टेन्ट की ग्लोबल भूख और हमारे सधी प्रस्तुतियों की एक कहानी कहता है।

हमारे फेसबुक फैन पेज पर पर हमारे 21 लाख चहेते हैं, तकरीबन पांच लाख गूगलप्लस पर और 70 हजार के आसपास ट्वीटर पर हमारे फॉलोवर हैं। अन्य प्लेटफार्म्स जैसे सोशलकैम, टम्बलर और पिन्टरेस्ट पर भी हमारा प्रभाव लगातार बढ रहा है। हमारा डिजिटल का दृष्टिकोण उसे केवल प्रमोशनल टूल के बतौर प्रयोग करने तक सीमित नहीं है बल्कि उससे परे जाता है। अभी हाल ही में हमने फेसबुक पर एक अप्लीकेशन लॉच किया है जिससे हमारे दर्शक गीतो का अनुरोध कर पायेंगे। यह अनुरोध करने का एकदम नया ठंग है और हम इसे “जूमईट” नाम दिया हैं। नवयुवक सोशल मिडिया से अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त करने के लिये जुडते है और अब वे बॉलीवुड के अपने चहेते स्टार्स के गीतो द्वारा भी अपनी भावनायें अभिव्यक्त कर सकते हैं और अपने दोस्तों को बतला सकते है। इस अप्लीकेशन के पहले कमोवेश 15000 अनोखे यूजर हैं और 22000 “जूम-ईट” पर गानों का अनुरोध करते हैं। यह सब लॉच करने के एक महीने के भीतर सम्भव है।

 

जूम की भविष्य में क्या सम्भावनायें है?

आज यूथ स्पेश में मार्केटर्स के एक बडे वर्ग का विस्फोट हुआ हे जो बेहद ब्रांट कांशियस, खर्चीला प्रवृत्ति और ऊंची आय वाले इस हिस्से पर निशाना साधे हुये है । बॉलीवुड कमोवेश नवयुवकों की लाईफस्टाईल के हरएक पहलू में सर्वव्यापी रूप से अवस्थित है। इसलिये जूम एक ब्रॉड के बतौर जो नवयुवकों को एन्टरटेनमेन्ट देता और जो उनका सबसे पसंदीदा बॉलीवुड डेस्टिनेशन है कुछ बहुत ही रोमांचक छडों के लिये तैय्यार है।

एक यूथ प्लेटफॉर्म के बतौर जो हमारी ताकत है हमारा फोकस उन जोर देने पर है। हम कन्टेन्ट उत्पादन और प्रसारण और एक मल्टी-प्लेटफार्म का हिस्सा होनें के कारण मीडिया कान्गलोमेरेट, और मार्केटर्स के ब्रांड्स इन्गेजमेन्ट सोल्यूशन्स को दर्शको तक पहूँचाने के लिये साथ पार्टनरशिप पर जोर देंगे। ब्रांड और कन्टेन्ट के बीच एक समग्र संबन्ध निर्मित करने के लिये हम सह-संरचित प्रासंगिक संवाद के दर्शन का प्रयोग करेंगे न कि  सीधे किसी ब्रांड को शो में घुसेडने का दर्शन पर चलेंगे । ब्रांड मेसेज और दिलचस्प कन्टेन्ट के बीच एक निरन्तर सम्बन्ध और उन वर्धित प्रस्तावों का विविध मल्टीमीडिया में सतत विस्तारण से हम मार्केटर को एक समग्र और वास्तव में एक प्रभावी  कम्यूनिकेशन सोल्यूशन देने में सक्षम होंगे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: