Posted by: Rajesh Shukla | August 24, 2012

कदम्ब के फूल


It is believed that in  transcendental love for Krishna when Gopikas had stricken kadamb tree with their feet, it bloomed .  Kadam flower is  a fruit of love.<कदम्बम पदाघादात विकसितं >.  Perhaps because of Padaghaat Kadam tree received its name. Even today Vaishnava saints believe that if a devotee women in her transcendental devotion to Krishna strikes it with her feet, it blooms. Kadamb tree is associated with Sri Krishna as he played his divine transcendental Leela under this tree. Once entire Vraj was full of Kadamb trees but now it is almost barren..Krishna took Kadamb with him to Vaikunth in memory of love of Gopikas as PREM PRASAD.
प्रभु कृष्ण जी ने कहा लगाया है कदम्ब  को ? खोजना पड़ेगा …कदम्ब के फूल की कविता खोज रहा था लेकिन मुझे मिली नहीं ..कदम के पेड़ की यह कविता मिली काफी अच्छी है ..आनंद करे.

            कदम्ब का पेड़

यह कदम्ब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे
मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे

ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली
किसी तरह नीची हो जाती यह कदम्ब की डाली

तुम्हें नहीं कुछ कहता पर मैं चुपके-चुपके आता
उस नीची डाली से अम्मा ऊँचे पर चढ़ जाता

वहीं बैठ फिर बड़े मजे से मैं बांसुरी बजाता
अम्मा-अम्मा कह वंशी के स्वर में तुम्हे बुलाता

सुन मेरी बंसी को माँ तुम इतनी खुश हो जातीं
मुझे देखने को तुम बाहर काम छोड़ कर आतीं

तुमको आता देख बांसुरी रख मैं चुप हो जाता
पत्तों में छिप कर फिर धीरे से बांसुरी बजाता

बहुत बुलाने पर भी माँ जब नहीं उतर कर आता
माँ, तब माँ का हृदय तुम्हारा बहुत विकल हो जाता

तुम आँचल फैला कर अम्मां वहीं पेड़ के नीचे
ईश्वर से कुछ विनती करतीं बैठी आँखें मीचे

तुम्हें ध्यान में लगी देख मैं धीरे-धीरे आता
और तुम्हारे फैले आँचल के नीचे छिप जाता

तुम घबरा कर आँख खोलतीं, पर माँ खुश हो जाती
जब अपने मुन्ना राजा को गोदी में ही पातीं

इसी तरह कुछ खेला करते हम-तुम धीरे-धीरे
यह कदम्ब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे

– सुभद्राकुमारी चौहान

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: